सुबह 8 बजे से वोटिंग शुरू, नोटा का नहीं है विकल्प, हर हाल में देना होगा वोट

Image
मेरठ  ( युरेशिया) । स्नातक एवं शिक्षक चुनाव के लिए आज 1 दिसंबर 2020 को वोट डाले जा रहे हैं। जिसके लिए विक्टोरिया पार्क से सोमवार को ही पोलिंग पार्टी रवाना हुई थीं। जनपद मेरठ में स्नातक के लिए 77 व शिक्षक के लिए 30 बूथ बनाए गए हैं। एक पोलिंग पार्टी में एक पीठासीन अधिकारी व 3 मतदान अधिकारी मौजूद हैं। सुबह आठ बजे से वोटिंग शुरू हो गई है। जो शाम पांच बजे तक चलेगी।अधिकारी भी लगातार बूथ पर निरीक्षण कर रहे हैं। जिलाधिकारी के. बालाजी ने बताया कि मेरठ खंड स्नातक निर्वाचन के लिए मेरठ व सहारनपुर मंडल के सभी नौ जनपदों में मिलाकर 113 मतदान केन्द्र व 372 मतदेय स्थल (सहायक बूथ सहित) बनाये गये हैं। मेरठ खंड शिक्षक निर्वाचन के लिए मेरठ व सहारनपुर मंडल के सभी नौ जनपदों में मिलाकर 111 मतदान केन्द्र व 116 मतदेय स्थल (सहायक बूथ सहित) बनाये गये हैं। मेरठ में स्नातक के लिए 77 बूथ व 31 मतदान केन्द्र तथा शिक्षक निर्वाचन के लिए 30 बूथ व 30 मतदान केन्द्र हैं। उन्होंने बताया कि मतदान प्रातः 8.00 बजे से शाम 5.00 बजे तक होगा। स्नातक के लिए 30 व शिक्षक निर्वाचन के लिए 15 प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं। मतपत्र में नोटा

अब पीएचसी पर भी मनाया जाएगा ममता, किशोरी व सुपोषण दिवस


  • मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग करेगा सहयोग

  •  कुपोषण से मुक्ति के लिये की जाएगी काउंसलिंग


  यूरेशिया संवाददाता


मेरठ । ममता दिवस, सुपोषण दिवस, किशोरी दिवस अब रविवार को प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों (पीएचसी) पर लग रहे मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में भी मनाए जाएंगे।  अब तक यह कार्यक्रम आंगनबाड़ी केन्द्रों पर ही होते थे। 31 मार्च तक शहर की सभी पीएचसी पर लग रहे आरोग्य मेले में स्वास्थ्य विभाग के साथ बाल विकास एवं पुष्टïहार विभाग भी सहयोग करेगा। मेले में आ रहे मरीजों को कुपोषण मुक्त बनाने  के लिये उनकी काउंसलिंग की जाएगी।
 जिला कार्यक्रम अधिकारी विनीत कुमार ने बताया बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग की ओर से चल रहे आंगनबाड़ी केन्द्र पर हर महीने पोषण प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा। इस दौरान पोषणयुक्त खान-पान के स्टॉल भी लगाए जाएंगे। बच्चों के अभिभावकों की काउंसलिंग की जाएगी। मेले में 1 मार्च को सुपोषण स्वास्थ्य मेला, 8 मार्च को किशोरी दिवस ,15 मार्च को ममता दिवस ,22 मार्च को सुपोषण दिवस व 29 मार्च को सुपोषण स्वास्थ्य मेले का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने बताया मेले में गर्भवती महिलाओं की काउंसलिंग की जाएगी। इसके साथ ही उन्हें यह भी बताया जाएगा कि जन्म के एक घंटे के अंदर नवजात को माँ का दूध पिलाएं, यह उसका पहला टीका होता है। बच्चे के छह माह का होने के बाद उसे माँ के दूध के साथ ऊपरी आहार भी देना चाहिए। गर्भावस्था के दौरान अतिरिक्त आहार अवश्य लेना चाहिए। हरी सब्जियां ,फल, गुड़-चना मूंगफली, दाल आदि का सेवन अधिक मात्रा में करना चाहिए । इनके सेवन से गर्भवती में एनीमिया, डायबीटीज, ब्लड प्रेशर होने का खतरा नहीं रहता।


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां