स्वास्थ्य मेलों के लिए मुख्य सचिव ने मांगा माइक्रो प्लान:हर रविवार ग्रामीण व शहरी स्वास्थ्य केन्द्रों पर होगा मरीजों का उपचार


  • आईएमए करेगा सहयोग, मेडिकल कालेज के इंटर्न डाक्टर भी करेंगे ड्यूटी


  यूरेशिया संवाददाता


मेरठ 14 जनवरी 2020। मेरठ समेत प्रदेश भर में चिकित्सकों की कमी दूर करने के लिये प्रदेश सरकार ने नया फार्मूला निकाला है। अब हर रविवार को चिकित्सकों की टीम ग्रामीण व शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर मरीजों का उपचार करेगी। मुख्य सचिव ने वीडियो कॅान्फ्रेंसिंग के जरिये स्वास्थ्य विभाग से इसका माइक्रोप्लान मांगा है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डा. राजकुमार ने बताया इस कार्यक्रम के लिये आल इंडिया मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) की मेरठ शाखा ने सहयोग का भरोसा दिया है वहीं लाला लाजपत राय मेडिकल कालेज की ओर से 70 इंटर्न डाक्टरों की सूची भी गयी है।
सीएमओ ने बताया शासन ने समीक्षा के साथ ही पूरी जानकारी भी मांगी की है। उन्होंने बताया माइक्रोप्लान के तहत 31 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों (पीएचसी), 26 शहरी पीएचसी में दो फरवरी से हर रविवार आरोग्य मेले आयोजित किये जाएंगे। हर टीम में दो- दो डाक्टर के अलावा कुल छ सदस्य होंगे। आईएमए भी इसके लिये सहयोग करेगा। न्यूरो, यूरो, हार्ट,किडनी व गेस्ट्रों की जटिल बीमारियों का इलाज उपलब्ध होगा। टीकाकरण के साथ ही शुगर, हाईपरटेंशन, नशामुक्ति आदि अभियान भी चलेंगे। महिलाओं में कैंसर एवं अन्य रोगों के उपचार के लिए काउंसलिंग भी की जाएगी। मेडिकल  कालेज के  प्राचार्य डा. आर सी गुप्ता ने 70 चिकित्सकों की सूची भेजी है। चिकित्सक एनीमिया, मोटापा, मोतियाबिंद,  टीबी, कैंसर, मानसिक रोग एवं अन्य बीमारियों के प्रति जागरूक करने के साथ ही काउंसलिंग भी करेंगे। यह माना जा रहा है कि सरकार के इस कदम से स्वास्थ्य केन्द्रों पर काफी हद तक मरीजों का दबाव कम होगा। आईएमए के डा. एनके शर्मा ने बताया विशेषज्ञ चिकित्सकों का पैनल बनाकर जल्द ही विभाग का पूरा सहयोग किया जाएगा।


Comments

Popular posts from this blog

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मुरादनगर में दर्दनाक हादसा, अंतिम संस्कार में गए लोगों पर गिरने से 23 की मौत, CM ने मांगी रिपोर्ट