मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में ३२३० लोगों ने उपचार का लाभ उठाया

युरेशिया संवाददाता    मेरठ। रविवार को जिले के ५७ प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों (पीएचसी) पर मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेले का आयोजन किया गया। पूरे जनपद में करीब ३२३० लोगों ने मेले का लाभ उठाया। आरोग्य मेले के लिये १०७ चिकित्सकों ४४३ पैरा मेडिकल स्टाफ की सेवाएं ली गयीं । इस दौरान ५०७ आयुष्मान कार्ड वितरित किये गये।  मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में ११७६  पुरुष, ११६७ महिलाओं,  ३८७ बच्चों ने पंजीकरण कराया। मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में १४९४ कोरोना (एंटीजन) जांच की गयी। कोविड हेल्प डेस्क पर २०४१ लोगों का परीक्षण किया गया। स्वास्थ्य मेले में सबसे ज्यादा मरीज ७४५ चर्म रोग के आये।  मेले में मौसमी बीमारियों की जांच के अलावा प्रजनन स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं के साथ गर्भवती, बाल और किशोर स्वास्थ्य से जुड़ी जांच पर खास जोर रहा। नवदम्पति को परिवार नियोजन के प्रति जागरूक करते हुए उनकी पसंद के परिवार नियोजन के साधन उपलब्ध कराये गये। मेले में कोविड प्रोटोकाल का पूरी तरह से पालन किया गया।   मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा अखिलेश मोहन ने बताया सभी पीएचसी पर आयोजित मेले में १२४६ पुरुषों, १४५४ महिलाओं व ४१९ बच्चों का पं

कुष्ठ निवारण दिवस पर डीएम ने किया घोषणा पत्र जारी


  • कुष्ठ रोगियों से भेदभाव न करें:-जिलाधिकारी


 यूरेशिया संवाददाता


नोएडा। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्य तिथि को कुष्ठ निवारण दिवस के रूप में मनाया गया। इसी परिप्रेक्ष्य में जनपद में गुरूवार को जनपद के चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग की ओर से स्पर्श कुष्ठ जागरूकता अभियान शुरू किया गया। इस अवसर पर जिला अधिकारी बीएन सिंह ने कुष्ठ रोग उन्मूलन पर घोषणापत्र जारी कियाए जिसमें कहा गया है कि जिले को कुष्ठ रोग से मुक्त बनाने के लिए सभी संसाधनों का प्रयोग करेंगे तथा कुष्ठ रोग से प्रभावित व्यक्ति के साथ भेदभाव नहीं होने देंगे। कुष्ठ रोग से जुड़े कलंक एवं भेदभाव को समाप्त करने के लिए महात्मा गांधी के आदर्श पर चलेंगे।
जिला अधिकारी ने घोषणा पत्र जारी करते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाण् अनुराग भार्गव, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी एवं विभाग के नोडल अधिकारी डा सुनील दोहरे को निर्देश दिया कि कुष्ठ रोग के प्रति ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागरूक करने के लिए कार्यक्रम चलाएं। उन्होंने स्कूलों में भी बच्चों को जागरूक करने की बात कही। उन्होंने लोगों से अपील की कि कुष्ठ रोगियों से भेदभाव न करें और उन्हें समाज की मुख्यधारा में लाने के लिए अपना योगदान दें।
स्पर्श कुष्ठ जागरूकता अभियान के शुभारंभ पर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर स्वास्थ्य मेला आयोजित कर जनमानस को कुष्ठ के प्रति सोच व कुप्रथा से अवगत कराया गया साथ ही बताया गया कि यह रोग छूने से नहीं फैलता है। दवा के नियमित सेवन से यह रोग पूरी तरह ठीक हो जाता है। विभाग की ओर से पम्पलेट्स बांटे गये। पम्पलेट्स पर कुष्ठ रोग के लक्षण तथा जांच व इलाज के बारे में पूरी जानकारी दी गयी है। इस अवसर पर 22 कुष्ठ रोगियों को एमसीआर चप्पल एवं सेल्फ केयर किट प्रदान की गयीं।डा दोहरे ने बताया अगर किसी भी व्यक्ति में कुष्ठ रोग के लक्षण पाए जाते हैं तो उसका नाम रजिस्टर में अंकित करके उसे जांच के लिए भेजा जाएगा। जांच के बाद अगर कुष्ठ रोग सामने आता है तो उसको कुष्ठ की निशुल्क दवा तब तक दी जाएगीए जब तक उसका कुष्ठ रोग ठीक न हो जाए। उन्होंने बताया अभियान के लिए माइक्रो प्लान तैयार कर लिया गया है। कुष्ठ रोग विभाग की टीम घर.घर जाकर लक्षणों की जांच करेगी।


Popular posts from this blog

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मुरादनगर में दर्दनाक हादसा, अंतिम संस्कार में गए लोगों पर गिरने से 23 की मौत, CM ने मांगी रिपोर्ट