कार्रवाही से खफा ग्रामीण, किया प्रदर्शन


यूरेशिया संवाददाता


बागपत। फजलपुर सुंदरनगर गांव के बाल्मीकि व दलित समाज के लोगों ने राजस्व विभाग के अधिकारियों पर उनके आवासीय पट्टों की जमीन छीनने का आरोप लगाया है। अधिकारियों द्वारा उनकी भूमि को जोतकर निशानदेही करने का भी कड़ा रोष जताते हुये उन्होंने न्यायालय का दरवाजा खटखटाने का निर्णय लिया है। 
फजलपुर सुंदरनगर गांव के पूर्वी छोर पर स्तिथ सैकड़ो बीघा भूमि पर दलित व बाल्मीकि समाज के करीब 80 लोग काबिज है। जिन्होंने उक्त भूमि में अपनी गेंहू, सरसों व गन्ने की फसल उगा रखी है। गांव के ही दलित व बाल्मीकि समाज के सुरेशचंद, मलखान, रोताश, सोहनलाल, अनूप, महावीर, रामकुमार, प्रसादे, कदमें, रगबीर ने राजस्व विभाग द्वारा उक्त भूमि पर कराई गई ट्रेक्टर जतरे से निशानदेही को गलत बताते हुए कहा कि वर्ष 1976 में रतिराम वैध प्रधान ने 79 दलित व बाल्मीकि समाज के लोगों को 840 मीटर भूमि प्रति व्यक्ति पट्टों के रूप में आवंटित की थी जिनकी वर्ष 1983 में चकबन्दी होकर उन्हें नक्शा 5, 23, 45 जोत बही भी दी गयी। उन्होंने बताया कि किसी भी अधिकारी ने न तो उन्हें कोई सूचना दी और न ही नोटिस दिया और आकर उनकी भूमि पर ट्रेक्टर जतरे से निशानदेही कर दी जो गलत है। उन्होंने राजस्व विभाग के अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर रोष जताते हुये न्याय के लिये न्यायालय का दरवाजा खटखटाने का निर्णय लिया है। 


Comments

Popular posts from this blog

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मुरादनगर में दर्दनाक हादसा, अंतिम संस्कार में गए लोगों पर गिरने से 23 की मौत, CM ने मांगी रिपोर्ट