16 से गैर संचारी रोगों की रोकथाम के लिये चलाया जाएगा अभियान



  •  15 फरवरी तक पूरे जिले में 30 साल से अधिक उम्र की महिलाओं व पुरूषों की जाएगी  जांच


यूरेशिया संवाददाता 


 मेरठ ।   गैर संचारी रोगों की रोकथाम के लिये स्वास्थ्य विभाग ने पूरी तरह कमर कस ली है। कल से यानी 16 जनवरी से 15 फरवरी तक अभियान पूरे जिले में चलाया जा रहा  है। जिसमें 30 साल से अधिक की आयु की महिलाओं व पुरूषों की गैर संचारी रोगों की जांच के साथ उनका उपचार किया जाएगा। बुधवार को सीडीओं की अध्यक्षता में बैठके का आयोजन किया गया।जिसमें उन्होंने अधिकारियों को दिशा निर्देश देते हुए अभियान को सफल बनाने के लिये कहा। 
  बैठक को सम्बोधित करते हुए सीडीओं ईशा दूहन ने कहा अभियान को सफल बनाने के लिये सभी की जिम्मेदारी है। सभी अपना कार्य पूरी इममानदारी के साथ करें। 
 सीएमओ  डा राजकुमार ने बताया कि गैर संचारी रोग के  अंतर्गत बीमारियां पहले 40 से 50 साल के दौरान घेरती थी, लेकिन अब 30 साल या उससे पहले ही अपने चपेट में ले रही है। इसी को ध्यान रखते हुए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन उत्तर प्रदेश के मेरठ समेत सभी जिलों में 16 जनवरी से 15 फरवरी तक गैर संचारी रोगों की स्क्रनिंग के लिये अभियान चलाया जाएगा। 12 प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं में गैर संचारी रोगों की प्राथमिक  जांच पडताल की जाएगी। डीसीपीएम हरपाल सिंह ने बताया जिले में 30 साल से अधिक आयु के २,६१,९६० लाख पुरूष व महिलाओं की स्क्रीनिंग का लक्ष्य  रखा गया है। अभियान ग्रामीण क्षेत्र के २७ पीएचसी, २० अर्बन पीएचसी २५ सब सैटंर -हेल्थ एंड वेलसेन सैंटरो व शहरी क्षेत्र  के  माध्यम से चलाया जाएगा। अभियान के तहत आशा कार्यकत्र्ताओं द्वारा निर्धारित रोस्टर के अनुसार 30  साल से अधिक आयु की महिलाओं व पुरूषों को गैर सरकारी रोगों डायबटिज, हाइपरटेंशन, ओरल व ब्रेस्ट कैंसर की स्क्रीनिंग के लिये हेल्थ एंड वेलनेस सेैंटर पर लाकर उनकी जांच की जाएगी। इसके तहत सभी का समुदाय आधारित मूल्यांकन पपत्र सीबैक फार्म भरा जाएगा। जिसे सीएचओ या एएनएम के पास जमा किया जाएगा और बाद में इसे गेर संचारी रोग पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा। आवश्यकता पडने पर एनएनएम व कम्यूनिटी हेल्थ ऑफिसर द्वारा अपने उपकेन्द्र क्षेत्र के दूरस्थ गांवों में भी कैंप लगाकर लोगों की स्क्रीनिंग की जाएंगी। योजना के तहत  हस्तिनापुर खादर क्षेत्र में भी अभियान चलाया जाएगा।
उन्होंने बताया जिले की सभी आशा कार्यकत्र्ताओं एएएनएम एसीएचओ  अन्य स्वास्थ्य कर्मियों, आंगनवाडी कार्यकत्र्ताओं, ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण समिति, और आरोग्य महिला समिति के सदस्यों को भी स्क्रीनिंग निकटतम हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर की जाएगी। स्क्रीनिंग के बाद चिन्हित लाभार्थियों को आवश्यकतानुसार उपचार दिया जाएगा। साथ ही अभियान के तहत आशा कार्यकत्र्ता द्वारा अपने कार्यक्षेत्र के सभी घरों का भ्रमण कर परिवार फोल्डर बनाया जाएगा। और 30 साल का सीबैक फार्म भरा जाएगा। इस अभियान की समीक्षा डीएम द्वारा हर सप्ताह की जाएगी। अभियान के लिये पूरी तैयारी कर ली गयी है।


Comments

Popular posts from this blog

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मुरादनगर में दर्दनाक हादसा, अंतिम संस्कार में गए लोगों पर गिरने से 23 की मौत, CM ने मांगी रिपोर्ट